Home News Point मोहम्मद रफी यादगार मंच डबवाली द्वारा मोहम्मद रफी की पुण्यतिथि पर ‘एक शाम मोहम्मद रफी व लता दीदी के नाम’ का आयोजन

मोहम्मद रफी यादगार मंच डबवाली द्वारा मोहम्मद रफी की पुण्यतिथि पर ‘एक शाम मोहम्मद रफी व लता दीदी के नाम’ का आयोजन

1 second read
0
0
106

मोहम्मद रफी यादगार मंच द्वारा मोहम्मद रफी की पुण्यतिथि पर ‘एक शाम मोहम्मद रफी व लता दीदी के नाम’ का आयोजन


-गायकों ने मोहम्मद रफी व लता मंगेश्कर के गाए गीत गाकर उन्हें संगीतमय श्रद्धा सुमन अर्पित किए
डबवाली
मोहम्मद रफी यादगार मंच द्वारा रविवार रात को रीगल पैलेस में महान पार्श्व गायक मोहम्मद रफी की पुण्यतिथि पर ‘एक शाम मोहम्मद रफी व लता दीदी के नाम’ का आयोजन किया गया। इसमें डबवाली, बठिंडा व आसपास क्षेत्र से आए अन्य गायकों ने मोहम्मद रफी व लता मंगेश्कर के गाए गीत गाकर उन्हें संगीतमय श्रद्धा सुमन अर्पित किए।
मुख्य अतिथि के तौर पर पहुंचे समाजसेवी सतीश जग्गा व राकेश शर्मा ने मां सरस्वती के चित्र के समक्ष ज्योति प्रज्जवलित करकें कार्यक्रम का शुभारंभ किया। उनके अलावा डा. मनमीत गुलाटी, वरिष्ठ नेता संदीप चौधरी, भाजपा युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष विजयंत शर्मा, अभिषेक शर्मा, नितिन शर्मा व अन्य अतिथियों ने मोहम्मद रफी व लता मंगेशकर के चित्रों पर माल्यार्पण किया। प्रसिद्ध गायिका महक मोंगा रजनी ने सरस्वती वंदना व इसके बाद बठिंडा से आए गायक दविंद्र सिकंदर ने ‘तूने मुझे बुलाया शेरां वालिए…’ गाकर कार्यक्रम का आगाज किया। इसके बाद मधुर गीतों का दौर शुरु हुआ।

क्लासिकल उस्ताद मा. कृष्ण शांत ने ‘मधुबन में राधिका नाचे रे.. व ‘अजहु ना आए बालमा सावन…’गीत गाकर समां बांध दिया। गायिका वंदना वाणी ने ‘वो जब याद आए…’, मनोहर पेंटर ने ‘तेरी प्यारी-प्यारी सूरत को किसी की नजर न लगे…’, जसदीप ने अपनी बेटी हरहुनर के साथ मोहम्मद रफी द्वारा गाया पंजाबी गीत ‘दस मेरेया दिलबरा वे…’, जीतू वर्मा बठिंडा ने ‘दर्दे दिल दर्दे जिगर…’, मनीष ने गुलाबी आखें जो तेरी देखी…’, केके पप्पू ने ‘हुई शाम तो उनका ख्याल…, राजेंद्र छाबड़ा ने ‘कर चले हम फिदा…’, राजकुमार सचदेवा ने ‘लिखे जो खत तुझे…’, रजनी मोंगा ने ‘मेरे दोस्त किस्सा ये क्या हो गया…’, सुरेंद्र चंचल ने ‘आने से उसके आए बहार…, सुरेंद्र टीटा ने ‘बड़ी दूर से आए हैं, प्यार का तोहफा…., पवन कुमार ने ‘अजी रूठ कर अब कहां जाइएगा…’, मनमोहन ने ‘सुबह न आई, शाम न आई…’, रसदीप ने ‘तुम मुझे यूं भुला न पाओगे…’ गीत सुनाकर महान पार्श्व गायक की यादों को ताजा किया। मंच संचालन आचार्य रमेश सचदेवा व गुरदीप कामरा ने निभाते हुए मोहम्मद रफी व लता मंगेशकर की अविस्मरणीय यादों को ताजा करते हुए उनकी जीवन यात्रा पर भी प्रकाश डाला। यह कार्यक्रम देर रात तक चला व उपस्थित श्रोताओं ने इसका भरपूर आनंद उठाया। कार्यक्रम आयोजक रजनी मोंगा व राज कुमार सचदेवा ने सभी का धन्यवाद किया। संस्था की और से सभी कलाकारों व अतिथियों को स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया गया।


इस अवसर पर भजन गायिका महक मोंगा रजनी की नईं भजन एलबम ‘नाम मईया दा’ का पोस्टर भी रिलीज किया गया। संगीतज्ञों में सलीम, मिस्टर राव, जतिंद्र जीतू ने अपनी कला का बेहतरीन प्रदर्शन किया। मौके पर परमजीत कोचर, रंग कर्मी संजीव शाद, सोमप्रकाश शर्मा, परमजीत सेठी लभु, मुकेश गोयल, ऋषि पपनेजा, पंकज मैहता, वरच्युस क्लब प्रधान मनोज शर्मा, नरेश शर्मा, तरसेम गर्ग सहित बड़ी संख्या में शहरवासी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

सख़्त राहों में आसां सफर लगता है ये मेरी मां की दुआओं का असर लगता है- डॉ वेदप्रकाश भारती

  मां ममता की मूर्त है और त्याग और तप की देवी है, मां की ममता में कोई मिलावट नहीं होत…