Home News Point डॉ. विपिन शर्मा द्वारा रचित पुस्तक सफर-शैरिषक से सिरसा तक का हुआ विमोचन पुस्तक पढ़ कर सिरसा के इतिहास की जानकारी हासिल कर सकेंगे पाठक

डॉ. विपिन शर्मा द्वारा रचित पुस्तक सफर-शैरिषक से सिरसा तक का हुआ विमोचन पुस्तक पढ़ कर सिरसा के इतिहास की जानकारी हासिल कर सकेंगे पाठक

5 second read
0
0
159

भाजपा नेता गोबिंद कांडा ने युवा इतिहासकार डॉ. विपिन शर्मा द्वारा लिखित सिरसा जिले के इतिहास पुस्तक सफर- शैरिषक से सिरसा तक का विमोचन किया।

इतिहास एक धरोहर है जिसे संजो कर रखना चाहिये : गोबिंद कांडा

डॉ. विपिन शर्मा द्वारा रचित पुस्तक सफर-शैरिषक से सिरसा तक का हुआ विमोचन पुस्तक पढ़ कर सिरसा के इतिहास की जानकारी हासिल कर सकेंगे पाठक  सिरसा भारतीय इतिहास संकलन समिति हरियाणा की सिरसा जिला शाखा के तत्वावधान में युवा इतिहासकार डॉ. विपिन शर्मा द्वारा लिखित जिला सिरसा की इतिहास पुस्तक ”सफर-शैरिषक से सिरसा तक” का रविवार को विवेकानन्द स्कूल के सभागार में विमोचन समारोह हुआ। समारोह में मुख्यातिथि भाजपा नेता गोबिंद कांडा ने युवा इतिहासकार डॉ. विपिन शर्मा द्वारा लिखित सिरसा जिले के इतिहास पुस्तक सफर- शैरिषक से सिरसा तक का विमोचन किया।

समारोह की अध्यक्षता भारतीय इतिहास संकलन समिति हरियाणा के  अध्यक्ष डॉ. रमेश धारीवाल ने की जबकि विशिष्ट अतिथि के तौर पर भारतीय रिजर्व बैंक मुंबई के पूर्व महाप्रबन्धक नरोत्तम शर्मा, आढ़तियान एसोसिएशन के पूर्व प्रधान सुरेंद्र मिंचनाबादी और भारतीय इतिहास संकलन समिति हरियाणा के प्रांत महासचिव डॉ. सुरेंद्र दलाल ने शिरकत की।
समारोह के मुख्यातिथि गोबिंद कांडा ने अपने संबोधन में कहा कि इतिहास किसी का भी हो वह धरोहर होता है जिसे संजो कर रखना चाहिए ताकि आने वाली पीढियां भी ऐतिहासिक जानकारी हासिल कर अपनी नॉलेज में इजाफा कर सके। उन्होंने कहा कि युवा इतिहासकार डॉ. विपिन शर्मा ने सिरसा जिले के इतिहास के बारे में एक पुस्तक प्रकाशित कर उत्कृष्ट कार्य किया है। वह बधाई के पात्र हैं।  मंच संचालन प्रसिद्ध रंगमंच कलाकार संजीव शाद ने बखूबी किया। अंत में विवेकानन्द स्कूल प्रबन्धन समिति के सचिव विवेक यादव ने सभी का आभार जताया। इससे पहले भारतीय इतिहास संकलन समिति के प्रांतीय उपप्रधान राम सिंह यादव ने जोशीली काव्य रचना भी सुनाई। वहीं राजकीय महिला महाविद्यालय, रानियां के प्राचार्य डॉ. शत्रुजीत कुमार व राजकीय महिला महाविद्यालय, भोडिय़ाखेड़ा के सहायक प्रोफेसर डॉ. राकेश कुमार ने पुस्तक की समीक्षा करते हुए कहा कि ”सफर-शैरिषक से सिरसा तक”  पुस्तक में मुगल साम्राज्य से अंग्रेजी साम्राज्य तथा सन् 1857 की क्रांति से 1947 तक के आंदोलनों में सिरसा जिला की भागीदारी से लेकर वर्तमान सिरसा का चित्रों सहित विस्तृत वर्णन लिखा गया है। वैद्य कविराज पंडित शिवकुमार शर्मा की पावन स्मृति में समर्पित ”सफर-शैरिषक से सिरसा तक” पुस्तक आने वाली पीढ़ी के लिए सिरसा का संपूर्ण इतिहास जानने में बहुत उपयोगी साबित होगी।
इतिहास की स्मृतियों को स्थायित्व प्रदान करेगी पुस्तक : धारीवाल  समारोह की अध्यक्षता करते हुए भारतीय इतिहास संकलन समिति, हरियाणा के प्रांत अध्यक्ष डॉ. रमेश धारीवाल ने कहा कि इतिहास की स्मृतियों को स्थायित्व प्रदान करने हेतु  विपिन शर्मा ने अपने जनपद सिरसा के मुगल शासकों के समय से वर्तमान विकसित सिरसा तक के इतिहास को कलमबद्ध  कर के ”सफर-शैरिषक से सिरसा तक” नामक  अपनी पुस्तक में यथा संभव चित्रों सहित वर्णन किया है। इसके लिए लेखक विपिन शर्मा बधाई के पात्र हैं। उन्होंने कहा कि विपिन शर्मा का यह प्रयास अति प्रशंसनीय है।
ये भी रहे मौजूद  इस अवसर पर समिति के संरक्षक हरि प्रसाद शर्मा, प्रधान सुभाष चन्द्र शर्मा, उपप्रधान गंगाधर वर्मा, स्कूल की प्राचार्या अनीता यादव, प्रबंध निदेशक सर्वोत्तम शर्मा, शिक्षाविद् कृष्ण वोहरा सहित जिलाभर के सीबीएसई से मान्यता प्राप्त विद्यालयों के प्राचार्य, इतिहास संकलन समिति के तमाम सदस्य एवं लेखक डॉ. विपिन शर्मा के परिजन एवं शहर के अनेक गणमान्य जन मौजूद रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

सख़्त राहों में आसां सफर लगता है ये मेरी मां की दुआओं का असर लगता है- डॉ वेदप्रकाश भारती

  मां ममता की मूर्त है और त्याग और तप की देवी है, मां की ममता में कोई मिलावट नहीं होत…