Home News Point विद्यार्थियों में शिक्षा की अलख जगाने के लिए वरच्युस ज्ञान कोष कार्यक्रम का आगाज -भव्य समारोह में 32 जरूरतमंद छात्राओं में निशुल्क पुस्तकों का किया वितरण

विद्यार्थियों में शिक्षा की अलख जगाने के लिए वरच्युस ज्ञान कोष कार्यक्रम का आगाज -भव्य समारोह में 32 जरूरतमंद छात्राओं में निशुल्क पुस्तकों का किया वितरण

1 second read
0
0
64

अभी उड़ना है ऊंचा पँखो को खोल के रख…. आज किताब दिवस पर


डबवाली की प्रमुख सामाजिक संस्था वरच्युस क्लब द्वारा रविवार को बच्चों में शिक्षा की अलख जगाने के लिए वरच्युस ज्ञान कोष कार्यक्रम का आगाज किया गया। इसके प्रथम चरण में बीएसके कॉलेज ऑफ एजुकेशन में भव्य समारोह आयोजित कर 32 जरुरतमंद छात्राओं मेें वरच्युस एजुकेशन बैंक के तहत निशुल्क पुस्तकें, वाटर बॉटल, स्कूल बैग व स्टेशनरी का सामान वितरित की गई। 9वीं से 12वीं कक्षा तक की छात्राओं ने अपने अभिभावकों के साथ पहुंचकर समारोह की गरिमा बढ़ाई।


इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के तौर पर पहुंचे नगरपरिषद चेयरमैन टेकचंद छाबड़ा, हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के राज्य सचिव इंद्र जैन, आईटीओ आशीष सिंगला, उपमंडल शिक्षा अधिकारी लक्ष्मण दास नाहर, वरिष्ठ नेता सर्वजीत सिंह मसीतां ने क्लब संस्थापक केशव शर्मा के साथ ज्योति प्रज्जवलित कर व नवप्रगति स्कूल की छात्राओं ने सरस्वती वंदना गाकर समारोह का शुभारंभ किया। प्रबंधक समिति के सदस्य जितेंद्र शर्मा ने सभी अतिथियों का स्वागत किया। संस्थापक केशव शर्मा ने कहा कि क्लब के मुख्य सलाहकार रहे शिक्षाविद स्व. आत्मा राम अरोड़ा जी का सपना था कि जरुरतमंद विद्यार्थी भी अच्छी शिक्षा ग्रहण करें और कोई भी विद्याथी किताबों से वंचित न रहे। वरच्युस क्लब ने उनके सपने को साकार करने के लिए ही वरच्युस ज्ञान कोष का यह प्रकल्प शुरु किया है। प्रोजेक्ट चेयरमैन सोनू बजाज ने बताया कि वरच्युस ज्ञान कोष प्रकल्प के तहत विद्यार्थी मेले, शैक्षणिक प्रदर्शनियां, करियर काऊंसलिंग, पुस्तक वितरण, मोटिवेशनल सेमिनार, परीक्षा के दिनों में हैल्प डेस्क, वरच्युस शिक्षार्थी सम्मान कार्यक्रम, मेधावी विद्यार्थियों को शैक्षणिक भ्रमण, वरच्युस चिल्ड्रन क्लब सहित कई अन्य गतिविधियों का संचालन समय-समय पर किया जाएगा। निशुल्क पुस्तक वितरण का यह कार्यक्रम 32 छात्राओं तक सीमित नहीं रहेगा बल्कि वरच्युस एजुकेशन बैंक के तहत आगामी दिनों में भी जरुरतमंद विद्यार्थियों को पुस्तकें उपलब्ध करवाना जारी रहेगा। वरच्युस भवन में प्रतिदिन शाम 6 बजे से 7 बजे तक लोग किताबें जमा करवा सकेंगे व जरुरतमंद विद्यार्थी किताबें निशुल्क प्राप्त कर सकेंगे।


इस अवसर पर नगर के सुप्रसिद्ध चिकित्सक पीके अग्रवाल ने अपनी कविता के माध्यम से बेटियों की पढ़ाई पर जोर देते हुए कहा कि किताबों से ज्ञान अर्जित होने के साथ-साथ किताबों से ही अरमान पूरे होते हैं।
क्लब के चीफ कोऑर्डिनेटर संजीव शाद ने कहा कि बेटियों के हाथ में किताब मां सरस्वती का स्वरूप बन जाती है। बेटियां एक घर को नहीं बल्कि दो घरों का रोशन करती है। उन्होंने सफदर हाशमी का गीत पढ़ना लिखना सीखो मेहनत करने वालो, सुनाकर सभी बच्चों को मेहनत से पढ़ाई करने के लिए प्रेरित किया। वहीं, नव प्रगति स्कूल की छात्राओं ने गिद्दे की प्रस्तुति से पंजाब की संस्कृति की झलक पेश की। अंत में सभी का धन्यवाद करते हुए प्रधान हरदेव गोरखी ने कहा कि वरच्युस क्लब ने आज शिक्षा की अलख जगाने का आगाज इस कार्यक्रम से किया है उसे भविष्य में भी जारी रखा जाएगा। मंच संचालन क्लब सचिव नरेश शर्मा ने किया। इस मौके पर डा. बीरचंद गुप्ता, तरसेम गर्ग, वेद कालड़ा, संतोष शर्मा, परमजीत कोचर, मनोज शर्मा, ज्ञान सिंह, प्रणव ग्रोवर, लवलीन नागपाल, प्रवीण कुमार, रमेश सेठी, सुमित अनेजा, डा. अश्वनी सचदेवा, नरेश सेठी ,डा. शमिंद्र मिगलानी, राकेश गोयल, भारत वधवा, आशीष मैहता, चंद्रमोहन जग्गा, अजय सेठी, वेद भारती, सुखदेव जौड़ा, सुरजीत बरजोत, शशिकांत शर्मा, सुभाष मित्तल, विनोद बांसल, पवन गर्ग, रमेश गोयल, राजेंद्र कौशल, माही ग्रोवर, निर्मल नागपाल, पवन दुरेजा, प्रवीण मोंगा व बड़ी संख्या में अन्य लोग मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

सख़्त राहों में आसां सफर लगता है ये मेरी मां की दुआओं का असर लगता है- डॉ वेदप्रकाश भारती

  मां ममता की मूर्त है और त्याग और तप की देवी है, मां की ममता में कोई मिलावट नहीं होत…