To The Point Shaad

जल चालीसा को इंडिया बुक आफ रिकार्ड में मिला स्थान व मान्यता

राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त जल स्टार रमेश गोयल, जिन्हें भारत सरकार जलशक्ति मन्त्रालय द्वारा वर्ष 2020 में ‘‘वाटर हीरो‘‘ अवार्ड से सम्मानित किया गया था, द्वारा अप्रैल 2012 में रचित जल चालीसा को ‘‘इंडिया बुक आफ रिकार्ड‘‘ ने जल संरक्षण हेतु लिखी गई प्रमुख कविता व सर्वाधिक प्रकाशन के रूप में मान्यता प्रदान की है और रिकार्ड बुक 2021 में नाम प्रविष्टि की है। उल्लेखनीय है इंडिया बुक आफ रिकार्ड भारत सरकार के पास पंजीकृत है और एशिया बुक आफ रिकार्डस से सम्बन्धित है तथा उसी के नियमों अनुरूप कार्य करती है। ‘जल चालीसा’ की 2012 से सितम्बर 2019 तक 60 हजार प्रतियां प्रकाशित हो चुकी हैंं और 10 लाख से अधिक लोगों को सोशल मिडिया के माध्यम से पहुंचाई जा चुकी हैं। जलशक्ति मन्त्रालय, भारत सरकार की मासिक पत्रिका ‘जल चर्चा’ के दिसम्बर 2019 के अंक में पिछले बाहरी टाईटल पर जल चालीसा प्रकाशित की गई थी।

जलशक्ति मन्त्रालय ने भी इसे जल संरक्षण का पूर्ण सन्देश माना है। राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त कर चुकी जल चालीसा को अनेक समाचार पत्र व पत्रिकाओं ने भी प्रकाशित किया है। अन्तर्राष्ट्रीय न्यूज चैनल डीडी न्यूज तथा डीडी किसान ने अगस्त 2015 में इस पर विशेष फीचर प्रसारित किया था। चालीसा के गायन विडियो का विमोचन ऊड़ीसा के राज्यपाल श्री गणेशी लाल ने किया था। जल चालीसा का भुना (हरियाणा) में 2015, आगरा (उ.प्र.) में 2017, फरीदाबाद (हरियाणा) में मार्च 2021 सहित देश के अनेक स्थानों पर सामुहिक गायन भी हुआ है।


जल चालीसा’ रचियता प्रतिष्ठित आयकर व्यवसायी तथा वरिष्ठ नागरिक श्री गोयल ‘‘जिला प्रशासन’’ व ‘‘ह.प्रा. हिन्दी साहित्य सम्मेलन’’ के अतिरिक्त ‘‘जल स्टार अवार्ड‘, ‘‘डायमंड आफ इंडिया अवार्ड’’, सोशल जस्टिस बैस्ट मैन अवार्ड’, जैम आफ इंिडया अवार्ड, श्री चित्रगुप्त सम्मान 2017, राष्ट्र रत्न अवार्ड-2018, आउट स्टैंडिंग अवार्ड 2018, सारथी जल योद्धा सम्मान 2018 व अग्र रत्न अवार्ड 2018 से सम्मानित तथा भारत रत्न डा0 अब्दुल कलाम राष्ट्र निर्माण अवार्ड 2018 के लिए चयनित, सिरसा गौरव (सित. 2019) से सम्मानित किए जा चुके हैं। जल संरक्षण को समर्पित कार्यकर्ता, भारत विकास परिषद् के पूर्व राष्ट्रीय मन्त्री पर्यावरण एवं पर्यावरण प्रेरणा के संस्थापक व राष्ट्रीय अध्यक्ष रमेश गोयल को वर्ष 2020 में ही जलशक्ति मन्त्रालय, भारत सरकार द्वारा ‘‘जल रक्षक’’सम्मान व ‘‘वाटर हीरो अवार्ड‘‘ दिया गया था।
जल स्टार के नाम से देश भर में विख्यात तथा जल संरक्षण को जीवन का मिशन मान चुके 73 वर्षीय श्री गोयल जल संरक्षण पर वर्ष 2008 से निरन्तर प्रयासरत हैं और जल बचत से स्वतः होने वाले बिजली बचत, धन बचत व विकास के बारे में भी प्रकाश डालते हुए प्रदूषण की रोकथाम, वृक्ष बचाने, स्वच्छता के लिए छोटे छोटे उदाहरणों से समझाते हुए जल संरक्षण हेतु प्रोत्साहित करते रहते हैं। उल्लेखनीय है कि देश भर के विद्यालयों, महाविद्यालयों, कथा मंचों व अन्य 400 से अधिक कार्यक्रमों में लगभग 5 लाख विद्यार्थीयों, अध्यापकों व जनता को सम्बोधित कर चुके हैं जिसमें जल के महत्व, उपलब्धता, पानी बचत की आवश्यकता व अनिवार्यता तथा बरबादी रोकने के उपायों पर विस्तृत चर्चा करते हैं। तीन लाख चालीस हजार विज्ञप्तियां प्रकाशित तथा विद्यार्थियों व संस्थाओं के माध्यम से परिवारों मे वितरित कर चुके हैं और 2ग3 फुट के लगभग 2000 व लगभग 100 बड़े जल बचत प्रेरक बैनर देश के अनेक प्रान्तों में शिक्षण संस्थानों, मन्दिरों व सार्वजनिक स्थानों पर लगवा चुके हैं और निरन्तर लगवा रहे हैं। प्रत्यक्ष सम्बोधन तथा रेडियो, टीवी, अखबार आदि के माध्यम से लगभग एक करोड़़ लोगों को जल संरक्षण सन्देश दे चुके हैं। आजकल छोटी छोटी विडिओ क्लिपों के माध्यम सें सोशल मिडिया पर ‘‘क्यों और कैसे बचायें जल’’ का सुन्दर सन्देश देकर जागरूकता अभियान चला रहे हैं। वर्तमान उपलब्धि का श्रेय श्री गोयल ने अपने सहयोगियों, समर्थकों व शुभचिन्तकों के साथ-साथ प्रिंट मिडिया व इलैक्ट्रोनिक मिडिया को देते हुए उन सबका आभार व्यक्त किया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *