Home News Point राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय मसीतां में चल रही 20 दिवसीय संगीत व नृत्य कार्यशाला में सोमवार को अचानक हरियाणा कला परिषद के सह निदेशक महावीर गुड्डू ने पहुंच कर अवलोकन किया और तैयारियों का जायजा लिया

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय मसीतां में चल रही 20 दिवसीय संगीत व नृत्य कार्यशाला में सोमवार को अचानक हरियाणा कला परिषद के सह निदेशक महावीर गुड्डू ने पहुंच कर अवलोकन किया और तैयारियों का जायजा लिया

4 second read
0
0
20

हरियाणा कला परषिद व वरच्युस क्लब इंडिया के संयुक्त तत्वावधान में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय मसीतां में चल रही 20 दिवसीय संगीत व नृत्य कार्यशाला में सोमवार को अचानक हरियाणा कला परिषद के सह निदेशक महावीर गुड्डू ने पहुंच कर अवलोकन किया और तैयारियों का जायजा लिया।

उन्होंने कार्यशाला में भाग लेने बच्चों को अपने संबोधन में कहा कि ऐसी कार्यशालाएं जीवन मे ऊर्जा देती हैं। अगर आपने कलाकार बनना है तो उसकी ट्रेनिंग व शिक्षा अति जरूरी है। बिना शिक्षा के हम बहुत से अवसरो से वंचित रह जाते हैं। उन्होंने कहा कि आपकी मेहनत और लग्न से आपके व्यक्तित्व को नई दिशा मिलेगी क्योंकि हर व्यक्ति में कला के गुण होते है। उन्होंने गायन व लोक नृत्य के गुर भी दिए और हरियाणा की कला संस्कृति की जानकारी भी दी।
इस अवसर पर जेजेपी के जिलाध्यक्ष सर्वजीत मसीतां ने बच्चों से आजादी के अमृत महोत्सव के कार्यक्रम में हर घर तिरंगा अभियान के तहत 13 अगस्त से 15 अगस्त तक तिरंगा फहराने का आह्वान किया। कार्यकारी प्राचार्य दिलबाग सिंह विर्क ने सह निदेशक का स्वागत किया व उन्हें स्वलिखित गीता दोहावली पुस्तक भेंट की । वरच्युस क्लब के प्रधान मनोज शर्मा ने स्कूल में विशेष कार्यशाला आयोजित करने के लिए हरियाणा कला परिषद का धन्यवाद दिया व सह निदेशक महावीर गुड्डू को 20 अगस्त को होने वाले समापन समारोह में भी शिरकत करने का निवेदन किया

मंच संचालन क्लब के चीफ कोऑर्डिनेटर नरेश शर्मा ने किया। पीआरओ सोनू बजाज ने बताया कि इस मौके पर कार्यशाला निर्देशक संजीव शाद, विशाल सिंह, गुरलाल सिंह, डॉ सतपाल धालीवाल, डॉ राजेश सिहाग, विकास हर्ष, दिनेश, रीतू, सीता देवी, गुरदास, लवलीन, पूनम, एकता, गुरदास, लीलू राम, राजिन्दर, विजय सहारण, अशोक व अन्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

प्रति-संस्कृति का सृजन ही भगत सिंह – गुरशरण सिंह को नमन: कुलदीप सिरसा

भगत सिंह विचार…